सिवनी भाजपा के 3 प्रत्याशी ने भरा निर्वाचन फार्म।


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।


सिवनी से अब्दुल काबिज़ खान
भारतीय जनता पार्टी ने सिवनी जिले के 03 विधानसभा से अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दिया जिन्होंने आज भारी लाव लश्कर के साथ नामांकन दाखिल किया।

गौरतलब हो कि सिवनी विधायक दिनेश राय मुनमुन जो कि 2013 में सिवनी से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़े थे और 22 हज़ार मतों से अपने निकटम भाजपा प्रत्याशी को शिकस्त दी थी इस बार भाजपा से टिकट हासिल कर पुनः सिवनी से अपनी किस्मत आजमाने की कवायद में लगे है,वही राकेश पाल सिंह सिवनी जिला भाजपा के अध्यक्ष है जो केवलारी से चुनाव लड़ रहे है जिनके सामने कांग्रेस के रजनीश सिंह एक बड़ी चुनोती होंगे हम बतादे की पिछले 28 वर्षों से केवलारी विधानसभा में कांग्रेस क़ाबिज़ रही है ।
आज भाजपा के तीनो प्रत्याशी के साथ फार्म भरने की प्रक्रिया में शामिल होने बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे जिनके भीतर साफ तौर से उत्साह नजर आ रहा था।
सिवनी के राशि लॉन में 11 बजे से भाजपा के कार्यकर्ता एकत्रित होना शुरू हो गये थे,  भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से लेकर कार्यकर्ता उक्त कार्यक्रम में शामिल हुए जहां वक्ताओं ने अपनी बात रखते हुए अबकी बार 200 के पार का नारा देकर कार्यकर्ताओं से आव्हान किया कि वह भाजपा को जिताने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाये। उक्त कार्यक्रम के बाद  दोपहर लगभग 01 बजे भाजपा की रैली राशि लॉन से निकलकर मिशन स्कूल के सामने से जैन मंदिर रोड होते हुए शुक्रवारी पहुंची, शुक्रवारी से उक्त रैली नेहरू रोड, नगर पालिका चौक, बस स्टैण्ड होते हुए कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंची। इस मौके पर जगह-जगह दिनेश राय मुनमुन, राकेश पाल सिंह का स्वागत किया गया बाद में भाजपा के नेता कलेक्ट्रेट पहुंचे जहां उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया। इस मौके पर दिनेश राय मुनमुन और राकेश पाल जिंदाबाद के नारे भी जमकर लगे।


 
ऐसा पहली बार हुआ है जब भारतीय जनता पार्टी ने लगभग तीन दशको तक भाजपा में राज करने वाले स्थापित नेताओं को दरकिनार करते हुए नए चेहरो को टिकिट दिया। दिनेश राय मुनमुन एवं राकेश पाल सिंह को टिकिट मिलने से भाजपा के स्थापित नेताओं में मायूसी साफ तौर से देखी जा सकती है। आज जिस तरह से मुनमुन राय और राकेश पाल सिंह के लिए कार्यकर्ता एकत्रित होकर उसे देखकर स्थापित नेताओं में कहीं भी उत्साह दिखाई नहीं दिया जबकि कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह देखने को मिला।