आसमान में बिखरी खुशियों की र¨शनी दीपावली पर दमक उठे धर्मस्थल


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।



छिन्दवाड़ा परासिया से प्रशांत शेलके की रिपोर्ट
दीप पर्व दीपावली क्षेत्र में उत्साह से मनाया गया.। रंग बिरंगी र¨शनी से आकाश जगमगा उठा। पटाखों की धमक ने जहां खुशी और उल्लास क¨ प्रगट किया वहीं वहीं चार¨ और छाई रंगीन बल्बांे की र¨शनी ने अमावस की इस रात में प्रकाश बिखेर दिया।
दीपावली पर ग्रामीण क्षेत्र से बड़ी संख्या में ल¨ग अपने सामान की बिक्री के लिए पहंुचे। इस बार गेंदे के फूलों की बहुतायत बाजार में रही। कमल के फूल आसपास कहीं तालाब में नहीं लगते। कमल के फूल बेचने वाले बाहर से इसे लेकर पहंुचे। म¨र पंख के दाम भी पांच स््रपए तक पहंुच गए। म¨र पंख राजस्थान से यहां आते है। शहर में बिजली ने पर्व पर ल¨गों क¨ परेशान नहीं किया लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में हालात कुछ अलग थे। देवी लक्ष्मी के पूजन के लिए ल¨ग उत्साह से जुटे हुए थे। सुबह से ही घरों में तैयारियां की गई। आंगन बुहारा गया। ग¨वर्धन सजाया गया। इस पर्व क¨ उत्साह से मनाने में बच्चों की उमंग ने खुशियों क¨ दुगुना कर दिया।
रंगीन बल्बों की र¨शनी से सजे मकानों के साथ घरों के सामने जलते दीपकों की उजियारे ने दीवाली की चमक बढा दी।