उमा बोली विपक्ष में बैठने के काबिल भी नहीं है कांग्रेस जनता के पहरुए के रूप में काम नहीं कर सका विपक्ष


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।


पराासिया से प्रशांत की रिपोर्ट । पूर्व मुख्यमंत्री, वर्तमान केंद्रीय मंत्री सांसद और भाजपा की फायर बांड नेत्री आज परासिया आई। ताराचंद बावरिया के निवास पर अपने चिरपरिचित अंदाज में उन्होंने मोदी, मुख्यमंत्री षिवराज, गंगा, नर्मदा, भाजपा कार्यकर्ता, चुनाव की एंटी इंकंबेंसी और राम मंदिर से लेकर हर विषयों पर कार्यकर्ताटो ंसे बात की और असंतुष्ठों को मनाने साधने का काम किया।
उन्होंने कहा कि जाम संावली मंदिर से हमेषा की तरह उन्होंने हनुमानजी का आषिर्वाद लिया है और चैरागढ पूजन के बाद 12 से वे चुनाव प्रचार अभियान प्रांरभ करेंगी।
उन्होंने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि कांग्रेस विपक्ष में बैठने के लायक भी नहीं रही। कांग्रेस का पूरा सफाया होना चाहिए। कांग्रेस ने विपक्ष की भूमिका नहीं निभाई। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विपक्ष में बैठकर जनता का पहरुआ बनकर काम नहीं कर सकी। इस चुनाव में एंटी इंकंबेंसी कांग्रेस के प्रति है। कार्यकर्ताओं से उन्होंने कहा अपनी ही पार्टी के प्रति गुस्सा जायज है लेकिन अपनी पार्टी अपनी होती है। हम इसे कभी भी ठीक कर सकते है।
चुनाव में उनको याद है राम
उमा भारती ने कहा कि भाजपा से चुनाव के समय पूछा जाता है कि चुनाव में ही राम क्यों याद आते है । उन्होंने कहा कि चुनाव में हमे नहीं पत्रकारों को राम याद आते है। राम हमेषा हमारे हृदय में है।
षिवराज ने तपस्या को बनाए रखा
उमा भारती ने कहा कि जब उन्होंने प्रदेष में चुनाव अभियान प्रारंभ किया था तब न संसाधन थे न सुविधाएं। तपस्या से सत्ता मिली थी। मुख्यमंत्री षिवराज ने इस तपस्या को अपने परिश्रम से बनाए रखा। सत्ता के मद में चूर नहीं हुए। उन्होंने कार्यकर्ताओ ंसे कहा कि 15 साल और सत्ता रहने की तैयारी करना है।
भविष्य का भारत भाजपा का
उमा भारती ने कहा कि भविष्य का भारत भाजपा का भारत है। कांग्रेस सत्ता और विलासिता का मेंल करती है। हमने सिद्धांत और अत्याधुनिक संसाधनो का मेल किया है। इसका कोई मुकाबला नहीं कर सकता। एकात्म मानववाद, राष्ट्रवाद, राम मंदिर के साथ हमने फेस बुक व्हाट्स एप ट्विटर सबको जोडा है। पुराने अधिष्ठान को साथ रखकर नई उंचाईयां छुई है।