एड्स पीड़ित से भेदभाव करने पर 2 वर्ष तक की सजा एवं जुर्माने का प्रावधान: विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव

अलीगढ़ ब्यूरो  

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने आज  जिला मलखान सिंह चिकित्सालय में विश्व एड्स दिवस” पर एक जागरूकता गोष्ठी का आयोजन किया गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए प्राधिकरण सचिव श्री त्रिभुवन नाथ पासवान ने एच०आई०वी०/एड्स (बचाव और नियंत्रण) एक्ट 2017 के प्रावधानों के अनुसार  एड्स पीड़ित से भेदभाव दंडनीय अपराध है, एड्स से पीड़ित व्यक्ति के अधिकार उतने ही सुरक्षित हैं जितने आम व्यक्ति के इस अधिनियम में व्यवस्था की गई है कि व्यक्ति की सहमति से ही उसका एच०आई०वी० टेस्ट किया जा सकता है एवं पीड़ित व्यक्ति की पहचान सार्वजनिक नहीं की जा सकती है और उसके प्रति दुर्भावना नहीं फैलाई जा सकती है ऐसा करने पर तीन माह से दो साल तक की सजा एवं एक लाख रुपये तक का अर्थदण्ड लगाया जा सकता है प्राधिकरण सचिव ने कहाकि अपने साथी के साथ वफ़ादार रहें उसे धोखा न दें द्य दुर्भाग्यवश अगर हमारे घरपडौस या जानकारी में कोई एड्स से पीड़ित है तो उसके साथ आत्मीयता का व्यवहार करें गोष्ठी में उपस्थित पॉजिटिव प्यूपल को संम्बोधित करते हुए प्राधिकरण सचिव ने कहा कि प्राधिकरण को जिले के प्रत्येक कमजोर व्यक्ति का पैरोकार बनाया गया है  ताकि पीड़ित अपना अधिकार पा सके द्य अगर आपके अधिकारों का कहीं हनन हो रहा है तो प्राधिकरण आयें द्य प्राधिकरण आपको हर संभव विधिक सहायता उपलब्ध कराएगा इसमें परा विधिक स्वयं सेवक आपकी मदद करेंगे किसी भी समस्या के विधिक समाधान हेतु प्राधिकरण कार्यालय या पी०एल०वी० से संपर्क किया जा सकता है प्राधिकरण द्वारा सभी सहायता पूरी तरह मुफ्त होगी  गोष्ठी में डॉ० अनुराग राजवंशीपरामर्शदात्री जावित्री देवीनिधि शर्माज्ञानेंद्र मिश्रासईदा खातून आदि ने भी अपने विचार रखे द्य इस अवसर पर उपेन्द्र मिश्रारश्मि शर्मारवेन्द्र हरकुटदीपक शर्मावीरेन्द्र स्वरुप माथुरत्रिलोकी नाथ गौड़प्रतिभा राघवकविता गौड़संध्याउमावर्षा गौड़आभा वार्ष्णेयशबनमरेनूरोहित सहित सैकड़ों लोगों उपस्थित रहे| संचालन सतेन्द्र कुमार ने किया

इनपुट तपन शर्मा 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *