गौ तस्कर के आरोप में 55 वर्ष की आयु के बुजुर्ग की पीटपीट कर हत्या


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।


बिहार (Bihar) के अररिया जिले में एक बुजर्ग की पीट-पीटकर हत्या कर देने का मामला सामने आया है. अररिया (Araria) जिले के सिकटी थाना क्षेत्र के सिमरबनी गांव में शनिवार यह घटना हुई. जहां रात में ग्रामीणों ने पशु चोरी के शक में 55 साल के बुजुर्ग काबुल की पीट-पीटकर हत्या कर दी. पीड़ित काबुल पास के गांव का ही रहने वाला था. भीड़ द्वारा काबुल को मारे जाने का वीडियो भी वायरल हुआ है. इसमें काबुल भीड़ से जान की भीख मांग रही है. लेकिन भीड़ में से किसी का भी दिल नहीं पसीजा.

घटना का वीडियो वायरल होने के बाद पूरे इलाके में तनाव का माहौल है, लोगों में गुस्सा है. अररिया एसडीपीओ ने बताया कि घटना का वीडियो पुलिस को भी मिला है, पुलिस वीडियो की जांच कर रही है. पुलिस हर बिंदू से मामले की जांच कर रही है. साथ ही बताया कि मृतक काबुल अपराधी प्रवृति का था, उसके घर से पुलिस ने पिछले महीने ही नेपाल से लूटी हुई राइफल बरामद की थी.

बता दें, हाल ही में बिहार के सीतामढ़ी में 82 वर्षीय बुजुर्ग की भीड़ द्वारा हत्या (मॉब लिंचिंग) करने का मामला सामने आया था. जिसको लेकर विपक्षी दलों ने नीतीश कुमार की सरकार को निशाने पर लिया था. सीतामढ़ी हिंसा में उन्मादी भीड़ ने पहले बुजुर्ग जैनुल अंसारी का गला रेता और उसके बाद चौक पर जिंदा जला दिया था. परिवार को इस घटना का पता तीन दिन बाद चल पाया. दरअसल, हिंसा के दौरान सीतामढ़ी में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी, लेकिन हत्या के तीन दिन बाद जब एक घंटे के लिए इंटरनेट सेवा बहाल की गई तब जैनुल अंसारी के परिजनों को एक वायरल फोटो मिला, जो उनकी हत्या का था. प्रशासन के दबाव की वजह से जैनुल अंसारी के परिजनों को उनका शव पैतृक गांव से 75 किलोमीटर दूर मुज़फ़्फ़रपुर में दफ़नाना पड़ा.