बहराइच जनपद में 09 फरवरी को आयोजित होगा सामूहिक विवाह कार्यक्रम


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।



बहराइच  मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजनान्तर्गत जनपद में 09 फरवरी को आयोजित होने वाले सामूहिक विवाह कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए मंगलवार को देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने समस्त उप जिलाधिकारियों, खण्ड विकास अधिकारियों एवं नगर पालिका परिषद तथा नगर पंचायतों के अधिशाषी अधिकारियों को निर्देश दिया है कि सामूहिक विवाह कार्यक्रम के लिए अधिक से अधिक पात्र दम्पत्तियों का पंजीकरण कराया जाना सुनिश्चित करें। बैठक में अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत जरवल व रिसिया की अनुपस्थिति का कड़ा संज्ञान लेते हुए सम्बन्धित का वेतन रोकने तथा स्पष्टीकरण प्राप्त किये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने यह भी कहा कि इस महत्वपूर्ण योजना के सफल क्रियान्वयन में  समाज सेवी संस्थाओं, जन प्रतिनिधियों एवं सभी वर्गों के सम्मानित नागरिकों का भी सहयोग प्राप्त किया जाय।जिला समाज कल्याण अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा समाज में सर्वधर्म-समभाव एवं सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना जनपद में गतवर्ष से संचालित है। जिसके अन्तर्गत सभी धर्म एवं वर्गों के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने अर्थात जिनकी वार्षिक आय रू. 2.00 लाख से कम हो  के ज़रूरतमन्द, निराश्रित/परिवारों की विवाह योग्य कन्या/विधवा/ परित्यक्ता/तलाकशुदा महिलाओं के विवाह हेतु अनुदान एवं उनकी सामाजिक/धार्मिक मान्यता एवं परम्परा/ रीति-रिवाज के अनुसार विवाह कराने की व्यवस्था की गयी है।मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में प्रति विवाह रू. 35,000=00 व्यय किये जाने की व्यवस्था की गयी है। जिसमें से रू. 20,000=00 कन्या के दाम्पत्य जीवन में खुशहाली एवं गृहस्थी की स्थापना हेतु कन्या के खाते में अंतरित की जाती है एवं रू. 10,000=00 में विवाह संस्कार के लिये आवश्यक सामग्री यथा कपड़े, आभूषण, बर्तन व अन्य आवश्यक सामग्री दी जायेगी तथा रू. 5,000=00 विवाह कार्यक्रम आयोजन हेतु भोजन, पण्डाल, फर्नीचर आदि पर व्यय किया जायेगा। जिलाधिकारी ने बैठक के माध्यम से योजना की पात्रता रखने वाले अभिभावकगणों से अपेक्षा की है कि अपनी पुत्रियों की शादी के लिए सम्बन्धित विकास खण्ड/नगर पालिका अथवा नगर पंचायत कार्यालयों से सम्पर्क कर अपने आवेदन-पत्र भर कर जमा कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि आवेदन-पत्रों को भरने में अथवा अन्य किसी प्रकार की कठिनाई के समाधान के लिये जिला समाज कल्याण अधिकारी, बहराइच के कार्यालय से सम्पर्क स्थापित करें। बैठक के दौरान सामूहिक विवाह कार्यक्रम के लिए भोजन, पण्डाल, फर्नीचर इत्यादि की व्यवस्था पर भी चर्चा की गयी तथा सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। अनुसूचित जाति/जनजाति एवं सामान्य वर्ग के निर्धन व्यक्तियों की पुत्री शादी अनुदान योजना की समीक्षा के दौरान पाया गया कि उप जिलाधिकारियों के स्तर पर 32 तथा खण्ड विकास अधिकारियों के स्तर पर 206 आवेदन-पत्र लम्बित हैं। राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना की समीक्षा में पाया गया कि खण्ड विकास अधिकारियों को कुल प्रेषित 40822 आवेदन-पत्रों के सापेक्ष 10892 तथा नगर क्षेत्र के 1903 के सापेक्ष 496 आवेदन-पत्र लम्बित हैं। जिलाधिकारी ने सभी सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया कि तत्काल पेन्डेन्सी को समाप्त कराएं।इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी राहुल पाण्डेय, उप जिलाधिकारी नानपारा प्रभाष कुमार प्रशिक्षु आईएएस, सदर बहराइच के ज़ुबेर बेग, कैसरगंज के पंकज कुमार, पयागपुर के डा. संतोष उपाध्याय, महसी के सिद्धार्थ यादव, मोतीपुर के कीर्ति प्रकाश भारती, जिला विकास अधिकारी वीरेन्द्र सिंह, जिला समाज कल्याण अधिकारी आर.पी. सिंह, नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी व खण्ड विकास अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *