आलोक वर्मा: आज नौकरी छोड़ने को मजबूर ,कभी मिला था पुलिस मेडल


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।


सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा ने शुक्रवार को प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया है. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें सीबीआई निदेशक के पद पर बहाल किया था जिसके दो दिन बाद ही प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली कमेटी ने वर्मा को फिर से निदेशक पद से हटा दिया था. इसके बाद उन्हें फायर सर्विसेज एंड होमगार्ड विभाग में महानिदेशक नियुक्त किया गया था. लेकिन आलोक वर्मा ने इस पद पर आने से इनकार करते हुए सरकारी नौकरी छोड़ दी है.

आलोक वर्मा 1979 बैच के IPS अफसर हैं जिन्होंने महज 22 साल की उम्र में यह परीक्षा पास की थी. उनके पास दिल्ली पुलिस कश्मिश्नर और मिजोरम पुलिस में महानिदेशक रहने का भी अनुभव है. दिल्ली में पुलिस कमिश्नर रहते हुए उन्होंने पुलिस व्यवस्था में सुधार के तमाम काम किए जिनमें महिला पीसीआर की शुरुआत करना शामिल है.

दिल्ली के प्रतिष्ठित सेंट स्टीफेंस कॉलेज से स्नातक आलोक वर्मा 19 जनवरी 2017 को सीबीआई की प्रमुख बनाए गए थे. हालांकि इस पद पर आने से पहले उनके पास जांच एजेंसी में काम करने का कोई अनुभव नहीं था. बावजूद इसके प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली समिति ने उन्हें इस पद पर नियुक्त किया था. इस समिति में प्रधानमंत्री के अलावा लोकसभा में नेता विपक्ष और सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस शामिल होते हैं.