बहराइच “विष मुक्त खेती, नशा मुक्त गाँव“ के संकल्प के साथ देव संस्कृति इण्टर कालेज में आयोजित हुई चैपाल


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।


बहराइच राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजनान्तर्गत रबी में दलहन फसल परिक्षेत्र दिवस (फील्ड-डे) आयोजन के उद्देश्य से बुधवार को सीमावर्ती विकास खण्ड नवाबगंज अन्तर्गत देव संस्कृति इण्टर कॉलेज रामपुर, रूपईडीहा परिसर में “विष मुक्त खेती, नशा मुक्त गाँव“ के संकल्प के साथ चैपाल का आयोजन किया गया। जिसमें कृषि वैज्ञानिकों के साथ-साथ विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़े व्यक्तियों, नशा उन्मूलन के क्षेत्र में कार्य करने वाले समाजसेवियों, चिकित्सकों तथा सैकड़ों की संख्या में क्षेत्रीय किसानों व आमजन ने प्रतिभाग किया।किसान चैपाल को सम्बोधित करते हुए कृषि विज्ञान केन्द्र नानपारा के प्रभारी वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डा. के.पी. सिंह ने किसानों को सही फसल चक्र अपनाकर सह फसली खेती करने का सुझाव दिया। साथ ही फसलों में लगने वाली नाना प्रकार की बीमारियों, कीटाणुओं एवं जीवाणुओं से छुटकारा पाए जाने के प्राकृतिक तरीकों के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की। उप निदेशक कृषि कार्यालय के जिला सलाहकार कृषि वैज्ञानिक डा. पी.के. सिंह ने कृषि उपज को बढ़ाये जाने तथा रोजगारपरक किसानी पर चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार अत्याधुनिक बीज, कृषि सयंत्र एवं उर्वरक अनुदान पर किसानों का उपलब्ध कराया जा रहा है। सभी इच्छुक किसान पंजीकरण कराकर अनुदान योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। पुलिस क्षेत्राधिकारी नानपारा अरूण कुमार ने सीमावर्ती इलाकों में नशे के उपयोग से स्वास्थ्य तथा सामाजिक समस्याओं के बढ़ने पर चिन्ता व्यक्त करते हुए लोगों से अपील की कि युवाओं में नशाखोरी की लत को रोकने के लिए आगे आयें। कार्यक्रम का संचालन करते हुए महामना मालवीय मिशन बहराइच (अवध) के अध्यक्ष संजीव श्रीवास्तव एडवोकेट ने सीमावर्ती इलाके में नशाखोरों एवं नशा व्यापारियों के बढ़ रहे प्रभाव पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि जनजागरूकता के माध्यम से इस बुराई को रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि नशे की लत में आने से दर्जनों युवा असयम ही काल के गाल में समा चुके हैं, जिस कारण तमाम घरों का ताना-बाना ही बिगड़ गया है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते वरिष्ठ समाजसेवी अर्जुन कुमार (दिलीप) ने कहा की नशा हमारे घर परिवार समाज को खोखला कर रहा है। इस बुराई पर विजय के लिए हमें मालवीय मिशन के महाभियान से अधिकाधिक लोगों को जोड़ कर ‘‘विष मुक्त खेती, नशा मुक्त गाॅव’’ के सन्देश को जन-जन तक पहुॅचाना होगा। कार्यक्रम को किसान परिषद् के ब्लाक अध्यक्ष प्राचार्य एस.पी.सिंह, ग्राम प्रधान चन्द प्रकाश मिश्र, प्रकाश विश्वकर्मा, मनोचिकित्सक डा. मुकेश कुमार, एसएसबी के इंस्पेक्टर आर. अंसारी, फसल अनुसन्धान केन्द्र के एस.पी. सिंह, गोदाम प्रभारी आर. पटेल, धर्माचार्य महंत शिवालयबाग तथा रमेश श्रीवास्तव एडवोकेट आदि ने भी सम्बोधित करते हुए लोगों का आहवान्ह किया कि ‘‘विष मुक्त खेती, नशा मुक्त गाॅव’’ का संकल्प लें।इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य संजय श्रीवास्तव, वरुण श्रीवास्तव, किसान नेता राजेन्द्र मिश्र, डा. रवि श्रीवास्तव, कृष्ण श्रीवास्तव, विकास विश्वकर्मा समेत सैकड़ों की संख्या में किसानों ने सहभागिता की। चैपाल के अवसर पर मौजूद लोगों को केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों की जानकारी प्रदान करने के उद्देश्य से सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग तथा कृषि विभाग द्वारा प्रकाशित प्रचार साहित्य का वितरण भी किया गया।