वाहन चालान राशि भयंकर रूप से बढ़ाये जाने के जनविरोधी नियम को तत्काल वापस लिए जाने के संबंध में आर्यन पार्टी का धरना प्रदर्शन


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।


लखनऊ में जीपीओ स्थित गांधी प्रतिमा पर आर्यन पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज द्विवेदी के नेतृत्व में भाजपा सरकार द्वारा वाहन चालान राशि भयंकर रूप से बढ़ाये जाने के संबंध में सत्याग्रह एवं धरना प्रदर्शन किया गया।
इस मौके पर आर्यन पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज द्विवेदी ने कहा कि 1 सितंबर 2019 से जो नये नियम सरकार ने लागू किया है ये भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था और यहां की अर्थव्यवस्था के अनुकूल नही है।भारत जैसे विशाल लोकतंत्र में कोई भी बड़ा बदलाव अचानक नही लाकर धीरे धीरे लाना चाहिए क्योंकि यहाँ हर वर्ग के लोग पाये जाते है, रोज के 250 रुपये कमाने वाले मजदूर से लेकर करोड़ो कमाने वाले सेठ भी।
चालान के नये नियम जनविरोधी है, ये नियम निर्धन वर्ग,विद्यार्थी और मध्यम वर्ग की कमर तोड़ देगे।हमारे सामाज में 90% युवा छोटी मोटी नौकरियां (8 से 12 हजार रुपये की तनख्वाह पर) करके अपना और अपने परिवार का जीवन यापन करते हैं।ऐसे में भूलवश महीने में एक बार भी उससे कोई गलती हो जाती हैं तो उसके महीने भर की आमदनी तो चालान जमा करने में ही चली जायेगी।ये चालान के नये जनविरोधी नियम भ्रष्टाचार को भी बढ़ावा देने में सहायक होंगे।मीडिया में कई खबरे आ रही है जिसमें पुलिस और जनता के बीच हाथापाई हो रही हैं ये कानून व्यवस्था के लिए बहुत बुरा है, इसका जल्दी से जल्दी निराकरण अति आवश्यक है।आर्यन पार्टी इस जनविरोधी नियम का विरोध करती हैं और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से निवेदन करती हैं कि इन जनविरोधी नियमो को उत्तर प्रदेश में लागू न होने दे।
मदन गोपाल