बहराइच केन्द्रीय सीआरएम टीम को निरीक्षण में बेहतर मिली स्वास्थ्य सुविधाएं


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।


जरवलरोड बहराइच जिले में स्वास्थ्य सेवाओं के गुणवत्ता की जांच करने पहुंची केंद्रीय सीआरएम टीम ने जरवल विकासखंड के बम्भौरा में स्वास्थ्य उप केंद्र पांडे पुरवा और हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर बम्भौरा का बारीकी से निरीक्षण किया।केंद्रीय सीआरएम टीम ने स्वास्थ्य सेवाओं का निरीक्षण कर संतोष व्यक्त किया।पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जिले में स्वास्थ्य सेवाओं का निरीक्षण करने पहुंची केंद्रीय सीआरएम टीम के संजीता,डाक्टर मनोज शुक्ला, श्वेता, रिचा, डब्ल्यू एच ओ के वेद यादव,संदीप गुप्ता, विनोद कनौजिया ने जरवल विकासखंड के स्वास्थ्य उपकेंद्र पांडे पुरवा बम्भौरा और हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर बम्भौरा का बारीकी से निरीक्षण किया। स्वास्थ्य केंद्र में उपस्थिति पंजिका का अवलोकन किया। प्रसव कक्ष पहुंच कर गर्भवती महिलाओं को मिलने वाली सरकारी सुबिधाओं को देखा और सीएचओ अर्चना चौधरी तथा एएनएम सावित्री यादव से गर्भवती महिलाओं के बारे में जानकारी हासिल की।उच्च जोखिम वाली गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य के बारे में भी पूंछतांछ की और आशा से गर्भवती महिलाओं को दी जाने वाली सरकारी सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की।स्वास्थ्य सेवाओं के निरीक्षण में केंद्रीय टीम संतुष्ट नजर आई। इस मौके पर एडिशनल सीएमओ डॉक्टर जयंत डिप्टी सीएमओ डॉक्टर बीपी वर्मा बीसीपीएम राशिद सीएचसी मुस्तफाबाद के अधीक्षक डॉक्टर निखिल सिंह सहित स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारी मौजूद रहे।

धरी रह गई चाक चौबंद व्यवस्थाएं

केंद्रीय सीआरएम टीम को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुस्तफाबाद का भी निरीक्षण करना था।केन्द्रीय टीम के निरीक्षण के लिए एक हफ्ते से सीएचसी में तैयारियां चल रही थी। सीएचसी को रंग रोगन कर संवारा और सजाया गया था।साज सज्जा और साफ-सफाई का बेहतर इंतजाम था। लेकिन केन्द्रीय सीआरएम टीम ने सीएचसी मुस्तफाबाद का निरीक्षण नहीं किया, जिससे एक हफ्ते से की जा रही तैयारियों पर पानी फिर गया और चाक-चौबंद व्यवस्था में धरी की धरी रह गई। सीएचसी मुस्तफाबाद के अधीक्षक डॉक्टर निखिल सिंह ने बताया कि निरीक्षण की तैयारियां पूरी थी,लेकिन टीम ने निरीक्षण नहीं किया।

राम कृपाल यादव