कलेक्टर श्री मौर्य ने धान उपार्जन केन्द्रों में तौलाई तथा धान की रख रखाव व्यवस्था का किया विशेष रूप से मुआयना


Advertisement

http://indiafactnews.co.in पोर्टल में पब्लिश न्यूज़ की जिम्मेदारी स्वयं संवादाता की होगी। इसके लिए एडिटर जिम्मेदार नहीं होगा नहीं न्यूज़ पब्लिश करने के लिए एडिटर की अनुमति आवश्यक है।



राजनांदगांव 04 दिसम्बर 2019। कलेक्टर श्री जयप्रकाश मौर्य ने आज शाम राजनांदगांव विकासखंड के ग्राम सोमनी, बनबघेरा, उपरवाह, पदुमतरा और गठुला धान उपार्जन केन्द्रों का आकस्मिक निरीक्षण कर धान खरीदी व्यवस्था का मुआयना किया। श्री मौर्य ने खास तौर पर धान तौलाई तथा खरीदे गए धान के रखरखाव व्यवस्था का विशेष रूप से अवलोकन किया।
कलेक्टर श्री मौर्य ने अनेक उपार्जन केन्द्रों में अपने धान की तौलाई करा रहे किसानों से चर्चा भी की। अनेक किसानों ने बताया कि टोकन के अनुसार धान खरीदने के बाद एक-दो बोरा धान बच जाता है। उसे वापस ले जाने में दिक्कत हो रही है। कलेक्टर श्री मौर्य ने किसानों की सुविधा की दृष्टि से समिति प्रबंधकों को निर्देशित करते हुए कहा कि किसानों के ऐसे धान का पंचनामा बनाकर उपार्जन केन्द्र में रख लिया जाए। अगली बार किसानों की बारी आने पर उसके साथ इस धान की तौलाई भी कर ली जाए। कलेक्टर के पूछने पर सभी उपार्जन केन्द्रों के प्रभारियों ने बताया कि उनके यहां धान खरीदी व्यवस्थित ढंग से चल रही है। बारदाने भी पर्याप्त मात्रा में है। कलेक्टर श्री मौर्य ने बारदाने की उपलब्धता के आधार पर हर दिन के लिए टोकन काटने के निर्देश दिए। श्री मौर्य ने किसानों से चर्चा करते हुए कहा कि धान के रकबे के अनुसार सभी किसानों से प्रति एकड़ अधिकतम 15 क्विंटल के मान से धान की ख्ररीदी की जाएगी। वास्तविक किसानों को धान बेचने के लिए किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी।
कलेक्टर श्री मौर्य ने धान उपार्जन केन्द्रों में धान बोरों की स्टेकिंग व्यवस्था का भी अवलोकन किया। उपार्जन केन्द्रों में शाम को तौलाई और स्टेकिंग का काम चल रहा था। श्री मौर्य ने उपार्जन केन्द्रों में नमी मापक यंत्र से धान की नमी की जांच भी कराई। उन्होंने धान उपार्जन केन्द्रों के प्रभारियों से कहा कि किसानों को धान बेचने के लिए बार-बार उपार्जन केन्द्र आने की जरूरत नहीं होनी चाहिए। किसानों को उनकी बारी के अनुसार धान खरीदी की तारीख की जानकारी दे दी जाए। ताकि किसान उसी तारीख को अपना धान बेचने उपार्जन केन्द्र आएं। श्री मौर्य ने किसानों के लिए उपार्जन केन्द्रों में पेयजल आदि की व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने स्टेकिंग धान की सुरक्षा के लिए कैप कव्हर की उपलब्धता के संबंध में भी जानकारी ली। कलेक्टर ने धान तौलाई करते समय विशेष रूप से सावधानी बरतने के निर्देश समिति प्रबंधकों को दिए।
किसानों को धान का भुगतान शुरू –
जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अधिकारियों ने इस अवसर पर बताया कि चालू खरीफ मौसम में खरीदे जा रहे धान के भुगतान की कार्रवाई भी शुरू हो गई है। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक की विभिन्न शाखाओं से अभी तक 991 किसानों को 4 करोड़ 82 लाख 30 हजार रूपए से अधिक का भुगतान किया जा चुका है। इस अवसर पर जिला खाद्य अधिकारी श्री किशोर कुमार सोमावार, एसडीएम राजनांदगांव श्री मुकेश रावटे, नायब तहसीलदार श्री हितेश देवांगन, सहायक खाद्य अधिकारी श्री पाढ़ी सहित खाद्य विभाग और सहकारिता विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

आवश्यकता है पत्रकारों की संपादक नवेद आज़मी 09098350946

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *