अलीगढ़ : हजारों की संख्या में कावंडिया चले शिव के द्वार ।

अलीगढ़ से धर्मेन्द्र सिंह राघव जी की रिपोर्ट :  बम-बम के जयघोषों से गूजां महानगर हजारों की संख्या में कावंडिया चले शिव के द्वार सुबह…

अलीगढ़ : रोड होल्डअप कर बदमाशों ने मचाया एक घंटे तांड़व राहगीरों समेत नई नवेली दुल्हन व दूल्हे से लाखों का समान लूटा ।

अलीगढ़ से धर्मेन्द्र सिंह राघव जी की रिपोर्ट : थाना बरला क्षेत्रान्र्तगत गांव रघुपुरा के समीप बुधवार की देर रात्रि करीब एक बजेपुलिस से बेखौफ…

अलीगढ़ : लकी डाॅ के नाम पर करोड़ों की ठगी ।

अलीगढ़ से धर्मेन्द्र सिंह राघव जी की रिपोर्ट : थाना गौड़ा क्षेत्र में दर्जनों लोगों को लाॅटरी के नाम पर ठगते हुये एक व्यक्ति द्वारा…

बालाघाट: कुपोषित बच्चों के सेहत से खिलवाड़

बालाघाट से मुकेश भट्ट जी की रिपोर्ट– जिले में इस समय कुपोषित बच्चों के उपचार हेतु संचालित हो रहे जिला अस्पताल केएनआरसी सेटंर अर्थात पोषण पुर्नवास केंद्र में तालाबंदी कर उनके स्वास्थ्य से खिलवाड़ किया जारहा हैं। जिससे कुपोषित बच्चे कहां हैं और उनकी सुध लेने वाले का कोई अतापता नहीं हैं। ऐसीस्थिति पिछले छह दिनों से हैं। वहीं विभागीय अधिकारीगण एक दूसरे पर जिम्मेवारी थोपने काप्रयास कर रहे हैं। वाईसऑवर- जानकारी के अनुसार शासन ने कुपोषित बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर चिंता करते हुयेउनके पोषण की सुविधा हेतु जिला अस्पताल में पोषण पुर्नवास केंद्र संचालित किये हुये हैं। जिसमेंकुपोषित बच्चे के साथ ही उसकी मां को भी भर्ती किया जाता हैं। जिसमें बच्चों व उसकी मां कोपोषण आहार के माध्यम से उपचारित कर उनकी विशेष निगरानी की जाती हैं। जिसमें उनके वजनमें अपेक्षित बढ़ोतरी अर्थात स्वास्थ्य में सुधार होने तक ऐसी निगरानी की जाते रहती हैं। कुपोषितबच्चों की पहचान आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा अपने वार्ड या ग्राम के बच्चों का वजन लेकर की जातीहैं। जिसमें कम वजन और अति कम वजन की श्रेणी के अनुसार माप कर अति कम वजन वाले कोजिला अस्पताल के एनआरसी सेंटर में पहुंचाया जाता हैं। जिले में कुपोषित बच्चों के लिये संचालितएनआरसी सेटंर में एक चिकित्सक सहित स्टाप की अलग से तैनाती हैं। पर इस समय इस सेंटर मेंसप्ताह भर से ताला लगे हुये हैं। ताला लगने के पहले यहां पर जो बच्चे भर्ती थे उन्हें छुटटी दे दी गईहैं। अर्थात कुपोषित बच्चों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया हैं। जिनकी कोई सुध नहीं लेने वाला हैं।वे बच्चे इस समय किस स्थिति में हैं इसकी विभाग को जानकारी भी नहीं हैं। बाईट-डॉक्टर पी.के.पाराशर एनआरसी सेंटर के चिकित्सक वाईसऑवर- एनआरसी सेंटर अर्थात कुपोषित बच्चों के पोषण पुर्नवास केंद्र में तालाबंदी होने कीवजह यह कि इस समय स्वास्थ्य विभाग में एनआरएचएम के ही कर्मचारियों की सेवा ली जा रहीथी। एक चिकित्सक के साथ इन कर्मचारियों द्वारा कुपोषित बच्चे की मानीटरिंग हो रही थी। पर जबसे एनआरएचएम के संविदा कर्मचारियों ने हड़ताल प्रारंभ की हैं तब से पोषण पुर्नवास केंद्र बंद होगया हैं। चिकित्सक की तैनाती हैं किंतु वे करें तो क्या। इसलिये यहां के सेंटर में इस समय तालालग गया हैं। यहां बता देवें कि संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल विगत 13 फरवरी से जारी हैंका व्यापक असर देखने मिल रहा हैं। स्वास्थ्य विभाग में कई ऐसे कार्य हैं जो प्रभावित हो गये हैं।प्रमुखत: उदाहरण के तौर पर पोषण पुर्नवास केंद्र को उदाहरण के तौर पर लिया जा सकता हैं। संविदाकर्मचारियों ने भी दावा किया कि उनकी हड़ताल से विविध 18 सेवाओं में से पोषण पुर्नवास कं्रेद भीशामिल हैं। वाईसऑवर- कुपोषित बच्चों का उपचार देखने वाले चिकित्सक बताते हैं कि कुपोषित बच्चों कापुर्नवास केंद्र में उपचार किया जाता हैं। काफी संख्या में बच्चों की भर्ती होने का क्रम चलते रहता हैं।आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से इन बच्चों का वजन कराकर भर्ती कराये जाने की प्रक्रिया होती हैं।शासन स्तर पर इस बाबद प्रयास हो रहे हैं। बावजूद इसके लिये जागरूकता की जरूरत हैं। अच्छेखानपान होने पर बच्चें कुपोषित नहीं होगें। इसके लिये मां को ध्यान दिये जाने की जरूरत हैं।कुपोषण का मामला काफी गंभीर हैं। पर इसके लिये जागरूकता व खानपान में सुधार कर ठीक कियाजा सकता हैं। बाईट- डॉक्टर पी.के.पाराशर वाईसऑवर- जिले में लगभग 14 सौ से अधिक कुपोषित बच्चों की संख्या विभागीय आंकड़े में दर्जहुई हैं। जिसमें अति कम वजन वाले बच्चों को एनआरसी सेंटर में भर्ती कराकर शिशु व उसकी मां कोउपचार व अच्छा पोषण देकर उपचारित किया जाता हैं। लेकिन जिस तरह से संविदा स्वास्थ्यकर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से वहां के बच्चों को छुटटी देकर वहां पर ताला लगा दिया गया यहकाफी गंभीर मामला हैं। चिकित्सा प्रबंधन व्यवस्था बनाने के बजाय उन्हें छुटटी देकर जिम्मेवारी सेबचने का प्रयास कर रहे हैं। यही स्थिति महिला बाल विकास विभाग की भी हैं। जिन्हें यह मालूम हीनहीं कि एनआरसी सेंटर में ताला लगे हुये हैं और बच्चों को भर्ती नहीं किया जा रहा हैं। यह भी कि जोबच्चे कुपोषित हैं उनकी स्थिति क्या हैं क्या उन्हें उपचार या अच्छा भोजन मिल रहा हैं या नहीं?बल्कि अपनी जिम्मेवारी से बचने का प्रयास कर रहे हैं। जब मीडिया ने जिला अस्पताल केआरएमओ से चर्चा की तो उन्होने माना कि संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल के चलतेकुपोषित बच्चों के लिये चलाये जा रहे पोषण आहार सेंटर फिलहाल में बंद हैं। हमारे पास इतनापर्याप्त स्टाप नहीं हैं जिसके कारण व्यवस्था नहीं की जा सक  रही हैं। कुपोषित बच्चे भर्ती थे उन्हेंछुटटी दे दी गई हैं। चूंकि स्टाप नहीं है और कल में कुछ हो जाये तो गंभीर मामला हो सकता हैं।फिलहाल में ऐसी कोई व्यकल्पिक व्यवस्था नहीं हैं। बावजूद कुछ गंभीर तरह के बच्चे आने पर उन्हेंतत्काल भर्ती कर लिया जाता हैं। इसी तरह से महिला बाल विकास अधिकारी को कुपोषित बच्चों केआंकड़े की जानकारी हैं पर एनआरसी सेंटर के बंद होने की नही।

छिन्दवाड़ा:सिंगोडी ग्राम में कोमिएकता की फिर मिशाल सामने आज देखि गई

छिन्दवाड़ा सिंगोडी से जाहिद मंशुरी की रिपोर्ट  :- अमरवाड़ा विधानसभा की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत सिंगोडी में बिगत सात दिनों से चल रही श्री राम…

बहराइच: मोदी देश को बाँटने का काम कर रहे हैं -लालू

-लालू के निशाने पर रहे मोदी -पूर्ण बहुमत से बनेगी गठबंधन की सरकार बहराइच  राजद सुप्रीमों लालू ने बहराइच के महराजगंज में महसी विधानसभा सीट…

महसी में भाजपा को संजीवनी दे गए प्रदेश अध्यक्ष

-सपा,बसपा व कांग्रेस एक ही थाली के चट्टे-बट्टे -भरष्टाचार व गुंडाराज को रोकने के लिए लानी होगी भाजपा सरकार बहराइच विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे…

जिले में 1 बजे पीएम मोदी 2 बजे पूर्व सीएम मायावती की रैली

बहराइच  जिले में 1 बजे पीएम *मोदी* एक बजे के करीब तो लगभग 2 बजे पूर्व सीएम *मायावती* जिले में अलग अलग अपने पार्टी प्रत्यासियो…

कोटा सी.आई.के समर्थन में उतरा बूंदी जाट समाज।

बून्दी।। कोटा महावीर नगर थाने के सीआई श्रीराम बड़ेसरा के समर्थन में बून्दी में जाट समाज ने जिला कलेक्ट्रेट के बाहर भाजपा विधायक व सरकार…

बहराइच :हेलीकॉटर दिखतें ही जोर शोर से लगे हर हर मोदी व अबकी बार भाजपा सरकार के नारे .

बहराइच आज दिनाँक 23/02/2017 को भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी जी पहुँचे बहराइच नानपारा रोड चौपाल सागर के पीछे ग्राउंड में हर हर मोदी…